Insurance claim process in Hindi

/
/
/
92 Views

जोखिम प्रबंधन का एक ज़रिया, बीमा या इंश्योरेंस वित्तीय नुकसान से सुरक्षा का एक साधन है जिसका उपयोग मुख्य रूप से एक आकस्मिक या अनिश्चित नुकसान के जोखिम के खिलाफ बचाव के लिए होता है। Insurance claim process की पूरी जानकरी इस पोस्ट में दी गयी है और Insurance के बारे में विस्तार से जानने के लिए पढ़े —

इंश्योरेंस क्लेम क्या होता है?

इंश्योरेंस का क्लेम बीमा पॉलिसी की शर्तों के तहत मुआवजे के लिए किया गया एक आवेदन होता है। जब पॉलिसीधारक अपने किसी नुकसान के लिए बीमा कंपनी को मुआवज़ा के लिए आवेदन पत्र के ज़रिए एक औपचारिक अनुरोध करता है, उसे Insurance Claim कहते है और इस पूरी प्रक्रिया को Insurance claim process कहा जाता है। आवेदन के बाद बीमा कंपनी दावे को मान्य करती है और बीमा क्लेम आवेदन के अनुमोदित होने पर यानी अप्रूव होने पर, बीमा कंपनी भुगतान जारी करती है।

Insurance claim process

इंश्योरेंस क्लेम कैसे करते है?

बहुत लोग नही जानते की बीमा पॉलिसी के पैसे के लिए कैसे क्लेम करे और इस कारण से उनकी बीमा क्लेम की राशि काफ़ी समय तक उन्हे नही मिल पाती है या फिर ग़लत जानकारी आवेदन में भरने के कारण भी बीमा क्लेम रद्द हो जाता है।

इस कारण से बहुत ही सावधानी और सही तरीके से Insurance claim process करना होता है ताकि क्लेम की धन राशि समय से बिना किसी समस्या के मिल जाए। यहा पर क्रमबद्ध तरीके से कौन कौन से बीमा का क्लेम कैसे करे, यह बताया गया है।

जीवन बीमा क्लेम (Life Insurance Claim) –

जीवन बीमा क्लेम मुख्य रूप से दो तरह के मामलों में किया जाता है, एक जब बीमा पॉलिसी होल्डर या बीमित व्यक्ति की मौत हो जाती है और दूसरा मामला जब पॉलिसी परिपक्व हो जाती है जिसे पॉलिसी का मेच्यूर होना भी कहते है।

पहले मामले में,  बीमा क्लेम आवेदन फॉर्म भरें और साथ में बीमित व्यक्ति का मृत्यु प्रमाणपत्र, नॉमिनी का प्रमाणपत्र और पॉलिसी से जुड़े सभी दस्तावेज संलग्न करें फॉर्म में ये जानकारिया भरे जैसे की बीमा का पॉलिसी नंबर, बीमित व्यक्ति की मौत की तारीख,मौत का स्थान व मौत की वजह दर्ज करे और दुर्घटना वस होने वाली मौत के मामले में पुलिस एफआईआर की प्रतिलिपि तथा पोस्टमार्टम की रिपोर्ट की प्रतिलिपि भी संलग्न करे। सही तरह से आवेदन होने के बाद लगभग 30 दीनो में बीमा कंपनी बीमा पॉलिसी की रकम को जारी करती है।

दूसरे मामले में, बीमा कंपनी बीमित व्यक्ति को एक डिस्चार्ज वाउचर भेजती है जिस पर बीमा लेने वाले व्यक्ति को अपना हस्ताक्षर करके वापस बीमा कंपनी को भेजना होता है। डिस्चार्ज वाउचर मिलने के बाद बीमा कंपनी बीमा पॉलिसी की रकम को जारी करती है।

स्वास्थ्य बीमा क्लेम (Health Insurance Claim) –

स्वास्थ्य बीमा के मामले में बीमा कंपनी दो तरह से क्लेम का समझौता करती हैं, एक विकल्प होता है कैशलेश इलाज जिसमे अस्पताल बीमा कंपनी से इलाज के खर्च का पैसे लेता है।

बीमा कंपनी द्वारा मान्य अस्पताल में आपको अपने इलाज के लिए भर्ती होना होता है और भर्ती होने से पहले या फिर भर्ती होने के बाद आवश्यक प्राधिकरण पत्र (ऑथराइजेशन फॉर्म) भरना पड़ता है।

बीमा कंपनियां कई अस्पतालों को ऐसी सुविधा प्रदान करने की अनुमति देती है जहां स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी से सम्बंधित दस्तावेज पहले से इन अस्पतालों के पास होते है। इन अस्पतालों से बीमित व्यक्ति अपने इलाज के लिए health insurance के ज़रिए सुविधा का लाभ उठा सकता है।

दूसरा विकल्प होता है जिसमे रोगी को अपने इलाज में होने वाले खर्च का भुगतान खुद करना पड़ता है, बाद में, बीमा कंपनी बीमारी के इलाज के दौरान होने वाले खर्च की राशि का भुगतान कर देती है।

अस्पताल में इलाज के दौरान हुए खर्च की अदायगी या प्रतिपूर्ति के लिए सही तरीके से ज़रूरी क्लेम फॉर्म में पूरा विवरण भरे और साथ में सभी सहायक दस्तावेज जैसे बिल रसीद, टेस्ट रिपोर्ट, अस्पताल का विमुक्ति पत्र (डिस्चार्ज सर्टिफिकेट) इत्यादि सब संलग्न करके, बीमा कंपनी से आवेदन करे।

मोटर बीमा क्लेम (Motor Insurance Claim) –

सड़क दुर्घटना होने पर या अन्य किसी कारण से मोटर गाड़ी को होने वाले नुकसान का किसी डीलर या किसी सर्विस सेंटर द्वारा अनुमानित विवरण निकालें। इसके बाद नुकसान के एवज़ में बीमा राशि के लिए क्लेम, नीचे दिए गये निर्देशों का का पालन करते हुए, करे।

  • सबसे पहले बीमा क्लेम के लिए आवेदन फॉर्म भर कर उसके साथ अपनी गाड़ी का पंजीकरण सर्टिफिकेट (आर सी) , ड्राइविंग लाइसेंस व दुर्घटना की पुलिस रिपोर्ट दर्ज करें।
  • आवेदन फॉर्म में पूरी जानकारी जैसे दुर्घटना की तारीख व समय, दुर्घटना का कारण, दुर्घटना में शामिल गाड़ियों के नाम, गाडियो के मॉडल, गाडियो के नंबर इत्यादि सब विवरण दर्ज करे।
  • थर्ड पार्टी क्लेम के लिए आपको एफआईआर की एक प्रतिलिपि संलग्न करके दस्तावेजों को मोटर एक्सीडेंट क्लेम ट्रिब्यूनल (एमएसीटी) के पास भेजना पड़ता है।
  • कार डकैती के मामले में बीमा क्लेम आवेदन फॉर्म में डकैती से सम्बंधित विवरण भरे और साथ में रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आर सी), ड्राइविंग लाइसेंस की प्रतिलिपि, एफआईआर की प्रतिलिपि और आरटीओ ट्रांसफर पेपर्स संलग्न करें।

कुछ दुर्घटना बीमा क्लेम के मामलों में आपको गवाहों का नाम व फोन नंबर भी देना पड़ता है, किसी तरह का विवाद होने पर बीमा कंपनी फॉर्म में दी गई जानकारी की जाँच पड़ताल कर सकें।


इंश्योरेंस के पैसे का क्लेम करते वक्त कुछ जरूरी बातों का ध्यान अवश्य रखे, जैसे कि इंश्योरेंस क्लेम घटना होते ही करे, जल्द से जल्द क्लेम करना बेहतर होता है और आवेदन के लिए सही जानकारी दे, यदि कोई जानकारी छुपाई जाती है तो क्लेम की रकम में कटौती की जा सकती है।

Read Also  Demat account kya hota hai in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This div height required for enabling the sticky sidebar